बुधवार, 4 अगस्त 2010

किस चित्रकार ने रंग भरे है

सुबह की सिंदूरी लाली में,
सूरज की सुनहरी किरणों में,
ओस बिखरी हरियाली में,
किस चित्रकार की तुलिका ने,
रंग भरे है इनमे मोहक !
और मै अपने घर आंगन की,
रंगोली में रंग भरती रही जीवनभर !
हवावों की सायं -सायं में ,
पायल -सी खनकती पत्तियोंमे ,
बारिश की रिमझिम बरसातों में,
किस गायक के सुरों ने,
स्वर भरे इनमे अद्भुत !
और में अपने मन वीणा के तारों में ही,
उलझी रही जीवनभर !
पूनम की मदभरी रातों में,
चन्द्र वदना यामिनी को
सागर की लहरों पर,
किस कवी की कलम ने
कविता लिख भेजी मनोहर !
और मै अपनी आधी -अधूरी
कविताओं पर मुग्ध होती रही जीवनभर!!

6 टिप्‍पणियां:

डा. अरुणा कपूर. ने कहा…

उस महान, अलौकिक चित्रकार का वर्णन आपने बहुत ही सुंदर शब्दों मे किया है...बधाई!

Sunil Kumar ने कहा…

और में अपने मन वीणा के तारों में ही,
उलझी रही जीवनभर !
सुंदर भावाव्यक्ति बधाई

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

सुबह की सिंदूरी लाली में,
सूरज की सुनहरी किरणों में,
ओस बिखरी हरियाली में,
किस चित्रकार की तुलिका ने,
रंग भरे है इनमे मोहक !

सुमन जी ,
मन के भावों को बड़ी सुन्दरता से पिरोया है आपने .....
गीत रूप में गेय सी कविता सहज ही होंठों पे थिरकती है ......!!

Suman ने कहा…

arunaji,sunil ji,harkirat ji aapka bahut bahut dhnyavad.

इस्मत ज़ैदी ने कहा…

बहुत सुंदर
भावनापूर्ण

gaurtalab ने कहा…

atisundar!!