शुक्रवार, 1 अप्रैल 2011

ढाई अक्षर प्रेम के .....


प्रेमग्रन्थ 
जितने भी लिख डालो 
प्रेमग्रंथ !
प्रेम का स्वाद कुछ 
समझ न आता 
दिल 
प्यासा का प्यासा !

   (२)

ऐ मुहब्बत 
दिल में ही, रहो 
कैद !
अच्छा नहीं लगता 
यहाँ-वहां झांकना 
तुम्हारा !

 (३)

बुद्धिवादी युग में,
निरंतर विचार,शब्द,ध्वनि 
के आघात से,
सिर्फ शब्दकोष में,
रह गई है 
शांति !

12 टिप्‍पणियां:

यशवन्त माथुर ने कहा…

बहुत अच्छा लगा पढ़ कर!

सादर

रश्मि प्रभा... ने कहा…

ऐ मुहब्बत
दिल में ही, रहो
कैद !
अच्छा नहीं लगता
यहाँ-वहां झांकना
तुम्हारा !
kya dekhna , raho n bheetar ... bahut badhiyaa

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

वाह सुमन जी आज तो नया अंदाज है । प्यार मुहब्बत के सिवा इस दुनिया में रख्खा क्या है ।

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

बुद्धिवादी युग में,
निरंतर विचार,शब्द,ध्वनि
के आघात से,
सिर्फ शब्दकोष में,
रह गई है
शांति !

बहुत बढ़िया ...सुमन जी

cmpershad ने कहा…

अच्छी क्षणिकाएं॥ बधाई सुमन जी॥

विशाल ने कहा…

बहुत उम्दा.तीसरी तो बहुत ही उम्दा.

Sunil Kumar ने कहा…

ऐ मुहब्बत
दिल में ही, रहो
कैद !
अच्छा नहीं लगता
यहाँ-वहां झांकना
तुम्हारा !
kya bat hai suman ji bahut achhe

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बुद्धिवादी युग में,
निरंतर विचार,शब्द,ध्वनि
के आघात से,
सिर्फ शब्दकोष में,
रह गई है
शांति ...

बहुत लाजवाब ... सच है शांति अब शब्द कोष में ही है ...

VIJUY RONJAN ने कहा…

kshanikayen bahut badhiya hai...dil mein hi muhabbat rahe to accha hai...idhar udhar jhankne se uski mahatta kam ho jaati hai.

VIJUY RONJAN ने कहा…

Suman ji,yeh tasveer san 1988 ki bani hai...vivahparant yah vada kiye huye ki ek duje
ke liye hain aur rahenge...iss sketch mein 2 chehre husband wife ke prominently ek duje ke concept ko jeete huye hain ,...anya rishton ki bhumika background me chhipe kuchh chehron ke madhyam se vyakt ki gayee hai.

meri kavitaon ki bhi samalochna kar sakti hain aap...kuchh kahi kuchh ankahi pe jakar.

dhanyavaad

४ अप्रैल २०११ ९:५३ अपराह्न

एक टिप्पणी भेजें

सतीश सक्सेना ने कहा…

दिले नादां तुझे हुआ क्या है ?

: केवल राम : ने कहा…

आदरणीय सुमन जी
सभी की सभी क्षणिकाएं गहरे अर्थ संप्रेषित करती हैं ....आपका आभार